Health / Indian News / सुर्ख़ियों

जानिए मकर संक्रांति पर पूरी जानकारी स्नान कब शुभ मुहूर्त और खिचड़ी का क्या महत्व और अन्य प्रदेशों में मकर संक्रांति कैसे मनाई जाती है

जानिए मकर संक्रांति पर पूरी जानकारी स्नान कब शुभ मुहूर्त और खिचड़ी का क्या महत्व और अन्य प्रदेशों में मकर संक्रांति कैसे मनाई जाती है

जानिए मकर संक्रांति पर पूरी जानकारी स्नान कब शुभ मुहूर्त और खिचड़ी का क्या महत्व और अन्य प्रदेशों में मकर संक्रांति कैसे मनाई जाती है

Happy MakarSakaranti 2019

मकर संक्रांति हिंदू का सबसे लोकप्रिय और आस्था वाले त्योहारों में से एक है। देश के कोने-कोने में मकर संक्रांति को बड़े धूमधाम से मनाया जाता है। हिंदुओं की आस्था और श्रद्धा से जुड़ा मकर संक्रांति किसी हाल में कोई भी हिंदू इसे भी मिस नहीं करना चाहता है। इस मकर संक्रांति का सबसे ज्यादा असर प्रयाग राज की महाकुंभ मेले में देखने को मिलेगा। जिसको प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कुंभ के मेले को एक आस्था  जुड़े प्रोजेक्ट के तौर पर लिया है सीएम योगी आदित्यनाथ ने  आने वाले सभी श्रद्धालुओं को विशेष व्यवस्था की है। यूं कहें कि श्री योगी जी ने अपने भरसक प्रयास के चलते किसी भी श्रद्धालु को कोई भी परेशानी ना होने के लिए संभव इंतजाम किए हैं।

भारतीय ज्योतिषयों के अनुसार हिंदुओं की आस्था से जुड़े मकर संक्रांति पूरी तरह सूर्य देवता से जुड़ा हुआ माना जाता है कि यूं कहें कि मकर संक्रांति पूरी तरह सूर्य देवता के लिए समर्पित है प्राचीन परंपरा के अनुसार कहा जाता है कि मकर संक्रांति के दिन सूर्य देवता धनु राशि से निकल कर मकर राशि में प्रवेश करते हैं। जैसे ही सूर्य देवता धनु राशि से निकल कर मकर राशि में प्रवेश करते हैं उसी समय एक बहुत बड़ा संयोग बनता है एक प्रकार से उसे सर्वसिद्धि योग भी कहा जाता है कि प्राचीन मान्यताओं के अनुसार इस समय  किया गया हर कार्य पूरी तरह सफल होता है इसलिए आस्था से जुड़े लोग इस शुभ मुहूर्त कब का बड़ा महत्व मानते हैं। और इस शुभ मुहूर्त समय के अनुसार गंगा यमुना गोदावरी कृष्णा और कावेरी नदी में डुबकी लगाकर स्नान करके निर्धनों को दान करके बड़ा पुण्य कमाते हैं

मकर संक्रांति का शुभ मुहूर्त समयः

भारतीय ज्योतिषियों के अनुसार इस बार मकर संक्रांति काल पर सर्व सिद्धि योग बन रहा है इस काल पर सूर्य देवता सोमवार 14 जनवरी 2019 को  धनु राशि से निकलकर शाम 8:08 बजे मकर राशि में प्रवेश करना आरंभ करेंगे मंगलवार 15 जनवरी 2019 दोपहर 12:00 बजे तक इसी राशि में ही रहेंगे।

मंगलवार 15 जनवरी 2019 के सुबह 7:19बजे से दोपहर 12:00 बजे तक का समय  जिस में सूर्य देवता  धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश कर रहे होंगे। इस 5 घंटे 19 मिनट का समय  शुभ मुहूर्त होगा। इस समय जो भी कार्य किया जाएगा वह पूरी तरह सफल होगा। इस समय सर्व सिद्धि योग बनने की दृष्टि में श्रद्धालु साधु और महात्मा पवित्र नदियों में जाकर स्नानदान गरीबों को भी दान कर सकते हैं। बहुत से  साधु महात्मा इस समय को महासंयोग बनने की स्थिति में पूजा पाठ कर कर सिद्धि प्राप्त करते हैं।

महाकुंभ प्रयाग राज मेंः

इस समय पर ही प्रयागराज के  महाकुंभ मेले में लाखों साधु, महात्मा और श्रद्धालु एक साथ डुबकी सूर्य देवता को नमन करेंगे। और फिर श्रद्धालु स्नान दान करके गरीबों को दान पुण्य करेंगे।फिर बहुत से साधु महात्मा श्रद्धालु इस समय संयोग बनने की स्थिति में पूजा पाठ भी करेंगे। जिस उद्देश्य की प्राप्ति के लिए पूजा करें। यह पूरी तरह सफल हो जाएगी।इस समय सर्व सिद्धि योग बनने की स्थिति में इस शुभ मुहूर्त पर जो भी कार्य किया जायेगा में सबसे बड़ा फलदाय होगा।

मकर संक्रांति पर खिचड़ी का महवः

मकर संक्रांति के इस पावन अवसर पर मंगलवार 15 जनवरी 2019 को सुबह 7:19 से लेकर दोपहर 12:00 बजे तक मकर संक्रांति पर सर्व सिद्धि योग बनने पर। देश के कोने-कोने में  संयुक्त रूप से बड़े स्तर पर खिचड़ी बनाने का आयोजन किया जाता है भारी मात्रा में लोग बैठकर खिचड़ी का भोग करते हैं

भारतीय ज्योतिषी के अनुसार मकर संक्रांति के मौके पर खिचड़ी बनाने के लिए चावल काली उर्द की दाल नमक  मटर हल्दी और हरी सब्जियों का प्रयोग किया जाता है जिसमें प्राचीन परंपराओं के अनुसार चावल को चंद्रमा ग्रहका प्रतीक माना जाता है, उड़द की काली दाल का शनि ग्रह का प्रतीक माना जाता है जबकि हरी सब्जियों को बुध ग्रह का प्रतीक माना जाता है प्राचीन मान्यता के अनुसार यह कहा जाता है कि मकर संक्रांति पर चावल उर्द की और हरी सब्जी से बनी खिचड़ी  खाने वाले सभी व्यक्तियों की ग्रह की स्थिति काफी मजबूत हो जाती है।

देश के अन्य राज्यों में मकर संक्रांति का आयोजनः जैसे भारत देश की अलग-अलग भाषाएं अलग अलग परंपरा अलग-अलग रहन-सहन है वैसे ही देश के अलग-अलग राज्यों में में मकर संक्रांति को अलग-अलग नामों से मनाया मनाई जाती है जिसमें कर्नाटक में मकर संक्रांति को उत्तर प्रदेश के तरह मनाई जाती है और तमिलनाडु केरल में मकर संक्रांति को पोंगल के रूप में मनाया जाता है हरियाणा, पंजाब में मकर संक्रांत को माघी के रूप में मनाया जाता है जबकि गुजरात राजस्थान में मकर संक्रांति को उत्तरायण के रूप में मनाई जाती है और उत्तराखंड में मकर संक्रांति को उत्तरायणी के रूप में मनाई जाती है

#Happy MaksrSakranti2019

#HappyMakarSakranti

#हैप्पी मकर संक्रांति 2019

 

हेलो गाइस टाइगर पोस्ट न्यूज़ नेटवर्क सदैव आप के लिए नवीनतम एवं उच्च क्वालिटी की खबरें व जानकारी उपलब्ध कराने के लिए वचनबद्ध है। हमारे चैनल द्वारा कोई ऐसी खबरों को बिल्कुल प्रसारित नहीं किया जाएगा जो सांप्रदायिकता व असामाजिक तत्वों को बढ़ावा देती है।टाइगर पोस्ट न्यूज नेटवर्क परिवार आप से आशा करता हैकि आप बेहतरीन, नवीनतम उच्च क्वालिटी की खबरें और जानकारी के लिए हमारे चैनल को सब्सक्राइब करें। सुशील बाबू सागर चीफ इन एडिटर टाइगर पोस्ट न्यूज़ रूम नंबर 1,बी 46, सेक्टर 63 नोएडा गौतम बुद्ब नगर उत्तर प्रदेश भारत। 201301 Tiger Post News Owner:Susheel Babu Sagar info@tigerpostnews.com sachinsagarsachin09@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>