Indian News / Indian politics

सीबीआई के अफसरों की गिरफ्तारी से उपजे विवाद के बाद ममता बनर्जी का धरना आज तीसरे दिन जारी। सुप्रीम कोर्ट ने आज रोज वैली एवं शारदा चिटफंड घोटाले की सुनवाई करते हुए क्या कहा

सीबीआई के अफसरों की गिरफ्तारी से उपजे विवाद के बाद ममता बनर्जी का धरना आज तीसरे दिन जारी। सुप्रीम कोर्ट ने आज रोज वैली एवं शारदा चिटफंड घोटाले की सुनवाई करते हुए क्या कहा

तीसरे दिन धरने पर बैठी ममता बनर्जी ने कहा हमारा धरना किसी एजेंसी के खिलाफ नहीं यह केवल मोदी सरकार के अत्याचार के खिलाफ जारी रहेगा। उधर भाजपा प्रवक्ता प्रकाश जावेडकर ने कहा ममता बनर्जी आरोपी राजीव कुमार को आखिर क्यों बचाना चाहती हैं।  सीबीआई की अर्जी पर आज सुप्रीम कोर्ट होगा कोलकाता पुलिस के भविष्य का फैसला

कोलकाताः2019 के लोकसभा चुनाव से पहले जिस तरह पश्चिम बंगाल की राजनीति को लेकर सरगर्मियां बढ़ती जा रही हैं। जिससे साफ जाहिर होता दिख रहा है कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी अपने महागठबंधन के अपने घटकों के साथ मोदी सरकार के अत्याचार खिलाफ आर पार के मूड में नजर आ रहे हैं। अब देखना यह है कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी मोदी सरकार पर भारी पड़ेगी। या फिर मोदी सरकार सीबीआई के माध्यम से ममता बनर्जी व उनके अफसरों के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट से कार्रवाई कराने में कामयाब हो पाएंगे। फिलहाल इस फैसला पर आज सुप्रीम कोर्ट की सुनवाई  होना बाकी है।

पुलिस आयुक्त राजीव कुमार को गिरफ्तार करने पहुंची सीबीआई के चार अफसरों को वहां पहुंचने के बाद क्या हुआ

पश्चिम बंगाल में राजनीतिक समीकरण बनते दिख रहे हैं वहीं भारतीय जनता पार्टी  ममता बनर्जी पर हमला करके पश्चिम बंगाल में अपनी खोई जमीन वापस तलाशने में  जुट गई है। यह पहले से ममता मोदी एक दूसरे को निशाना बनाने का अचूक औजार तलाश कर रहे थे। राजनीति के पुराने  धुरंधर नरेंद्र मोदी और अमित शाह पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के खिलाफ पर हमला करने के लिए सही समय का इंतजार में थे।दोनों ही  अपने अचूक शस्त्र के द्वारा महाकाली का रूप ममता बनर्जी पर हमला करना चाहते हैं। उधर  पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने अपना महाकाली का रूप दिखाते हुए मोदी सरकार के अत्याचार के खिलाफ विशाल जन आंदोलन शुरू कर दिया है। यहां पर आकर सीधे तौर पर कहा जाए तो पश्चिम बंगाल की शेरनी ममता बनर्जी अपने सत्याग्रह आंदोलन के माध्यम से मोदी सरकार को जड़ से  उखाड़ फेंकने के लिए हुंकार भर चुकी हैं। उधर राजनीति के महागुरु के नाम से मशहूर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमित शाह ममता रूपी शेरनी का शिकार करने से बिल्कुल पीछे नहीं हट रहे हैं। जिस तरह पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच राजनीति के तलवारे खींची हैं इसका 100% असर 2019 के लोकसभा चुनाव में साफ देखने को मिलेगा। क्योंकि जिस तरह भारतीय जनता पार्टी बंगाल में अपना वजूद व वर्चस्व को सक्षम करने में जुटी है। उसे यह तय है कि भारतीय जनता पार्टी को 2019 के लोकसभा चुनाव में  2 सीटों से 22 पा सकती है।

पुलिस आयुक्त राजीव कुमार को गिरफ्तार करने पहुंची सीबीआई के 40 अफसरों को वहां पहुंचने के बाद क्या हुआ और क्या था असली मामला

रोज वैली एवं चिटफंड घोटाले का असली सच

दरअसल सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर सीबीआई शारदा और रोज वैली के 17000 करोड़ के घोटाले की जांच कर रही है। जिसमें  आकर्षण स्कीमों द्वारा  रोज वैली चिटफंड कंपनी ने  निवेशकों का  तकरीबन 15000 करोड़ और शारदा चिटफंड कंपनी ने 2500 करोड़ रुपए लूटकर दोनों चिटफंड कंपनियों को पूरी तरह बंद कर दिया गया। 2013 में जैसी कंपनी बंद होने की सूचना निवेशकों को लगी. उत्तर प्रदेश उड़ीसा छत्तीसगढ़ पश्चिम बंगाल के निवेशकों ने रोज वैली और शारदा चिटफंड के खिलाफ शिकायत दर्ज कराना शुरू की. भारी मात्रा में शिकायतें आता देख ममता बनर्जी सरकार ने कोलकाता पुलिस आयुक्त राजीव कुमार के नेतृत्व में एसआईटी  टीम गठित कर जांच करना शुरू की। उनकी जांच में कोई संतोषजनक जवाब ना आने के कारण और निवेशकों का डूबा पैसा ना मिलने के कारण। भारी मात्रा में  निवेशकों ने 2014 में सुप्रीम कोर्ट में अर्जित डालकर सुनवाई करने की मांग की। जिस पर माननीय सुप्रीम कोर्ट ने मनी लेंडिंग व कंपनी नियमों को अनदेखा करने की जांच सीबीआई को सौंपी।

जिसकी जांच कर रही सीबीआई का आरोप है कि कोलकाता पुलिस आयुक्त राजीव कुमार के नेतृत्व में  रोजवैली व शारदा चिटफंड घोटाले की एसआईटी द्वारा जांच की गई। उसमें अहम सबूतों को नष्ट  किए गए थे। दरअसल सबूतों को नष्ट करने के मामले की जांच करने को ही सीबीआई के 40 अफसर  कोलकाता पुलिस आयुक्त राजीव कुमार के कोलकाता निवास पहुंचे। वहीं से ही पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी का हाईवोल्टेज ड्रामा पूरे इंडिया में छा गया।

सीबीआई ने मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट में क्या कहाः

पश्चिम बंगाल में सोमवार को सीबीआई और कोलकाता पुलिस के बीच हाई वोल्टेज ड्रामा के बाद  को सुप्रीम कोर्ट में पहुंची सीबीआई ने तुरंत सुनवाई की मांग करते हुए कोलकाता पुलिस आयुक्त राजीव कुमार के खिलाफ अर्जी  अर्जी देते हुए कहा कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी रोज वैली और शारदा चिटफंड घोटाले के आरोपियों को बचाने की कोशिश कर रही हैं शारदा चिटफंड मामले की जांच में कोलकाता पुलिस अडचन डाल रही है जिसमें राज्य के डीजीपी व मुख्य सचिव के खिलाफ अवमानना की कार्रवाई शुरू की जाना चाहिए कोलकाता पुलिस के पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार को निर्देश दिया जाना चाहिए कि वह सीबीआई की जांच में शामिल हो। और इस मामले की सुनवाई आज ही होना चाहिए। जिस पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि इसकी सुनवाई आज नहीं की जा सकती। फिलहाल इस मामले की सुनवाई अगले दिन को टाल ली

पश्चिम बंगाल के प्रकरण पर सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को क्या कहाः

कोलकाता पुलिस आयुक्त राजीव कुमार के खिलाफ अगर सीबीआई के पास पुख्ता सबूत हैं तो उन्हें पेश किया

पश्चिम बंगाल के प्रकरण के बाद ममता बनर्जी का बयान

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बयान देते हुए कहा किसी एजेंसी के खिलाफ हमारा सत्याग्रह आंदोलन नहीं। यह सत्याग्रह मोदी सरकार के अत्याचार के खिलाफ जारी रहेगा

बीजेपी प्रवक्ता प्रकाश जावेडकर ने बंगाल प्रकरण को लेकर क्या कहाः

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी आरोपी राजीव कुमार को क्यों बचाना चाहती हैं

सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को सर्वोच्च न्यायालय में क्या कहाः

देश की सर्वोच्च अदालत में आज  रोज वैली एवं शारदा चिटफंड घोटाले की सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा कोलकाता पुलिस के पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार शीर्ष अदालत में पेश हो।

पश्चिम बंगाल में शारदा चिटफंड घोटाले की आंच अब पूरी तरफ फैल चुकी है। जिसमें देश की सर्वोच्च न्यायालय ने आज रोज वैली शारदा चिटफंड घोटाले की सुनवाई करते हुए कहा कि कोलकाता पुलिस आयुक्त राजीव कुमार सुप्रीम कोर्ट में पेश हूं

सूत्रों के मुताबिक बताया जाता है कि सुप्रीम कोर्ट ने शारदा चिटफंड घोटाले की सुनवाई करते हुए कहा कि उन्हें कोर्ट में पेश हो और घोटाले से जुड़ी पूछताछ में में सीबीआई की हर संभव मदद करें।

राजनीतिक गलियारे में जिस हिसाब से अनजान लगाया जा रहा था कि आज  मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट की सुनवाई के दौरान देश की शीर्ष अदालत ममता सरकार के खिलाफ बड़ा फैसला सुनाने जा रही है।बैसा कुछ देखने को नहीं मिला । अर्थात सीबीआई चाहती थी ममता सरकार की कोलकाता पुलिस के डीजीपी मुख्य सचिव और पुलिस आयुक्त राजीव कुमार के खिलाफ  अवमानना का नोटिस जारी हो या  फिर कोलकाता मुख्य सचिव, पुलिस के डीजीपी एवं पुलिस आयुक्त राजीव कुमार की गिरफ्तारी हो। लेकिन आज सुप्रीम कोर्ट की सुनवाई के बाद यह साफ स्पष्ट हो गया कि मोदी सरकार के कड़े  प्रहार के बावजूद ममता बनर्जी पूरी तरह बच गई है।

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

हेलो गाइस टाइगर पोस्ट न्यूज़ नेटवर्क सदैव आप के लिए नवीनतम एवं उच्च क्वालिटी की खबरें व जानकारी उपलब्ध कराने के लिए वचनबद्ध है। हमारे चैनल द्वारा कोई ऐसी खबरों को बिल्कुल प्रसारित नहीं किया जाएगा जो सांप्रदायिकता व असामाजिक तत्वों को बढ़ावा देती है।टाइगर पोस्ट न्यूज नेटवर्क परिवार आप से आशा करता हैकि आप बेहतरीन, नवीनतम उच्च क्वालिटी की खबरें और जानकारी के लिए हमारे चैनल को सब्सक्राइब करें। सुशील बाबू सागर चीफ इन एडिटर टाइगर पोस्ट न्यूज़ रूम नंबर 1,बी 46, सेक्टर 63 नोएडा गौतम बुद्ब नगर उत्तर प्रदेश भारत। 201301 Tiger Post News Owner:Susheel Babu Sagar info@tigerpostnews.com sachinsagarsachin09@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>