पश्चिम बंगाल

पुलिस आयुक्त राजीव कुमार से पूछताछ करने पहुंची सीबीआई टीम को कोलकाता पुलिस ने किया गिरफ्तार। उनके समर्थन में धरने पर बैठी ममता बनर्जी पूरे देश से समर्थन की अपील

पुलिस आयुक्त राजीव कुमार से पूछताछ करने पहुंची सीबीआई टीम को कोलकाता पुलिस ने किया गिरफ्तार। उनके समर्थन में धरने पर बैठी ममता बनर्जी पूरे देश से समर्थन की अपील

कोलकाता पुलिस आयुक्त राजीव कुमार से पूछताछ करने पहुंची सीबीआई की टीम को किया गिरफ्तार। उनके समर्थन में धरने पर बैठी ममता बनर्जी को पूरे देश से समर्थन की अपील। धरना स्थल पर कांग्रेस बसपा सपा के प्रमुखों के पहुंचने की उम्मीद लोकसभा 2019 में होगा महागठबंधन और एनडीए के बीच कड़ा

Manta Bannerji Vs CBI

एक अभूतपूर्व घटनाक्रम में कोलकाता में घटी। सूत्रों के मुताबिक बताया जाता है कि  CBI के तकरीबन 40 अधिकारी  रोज वैली और शारदा चिटफंड घोटाले  के  सिलसिले में कोलकाता के पुलिस आयुक्त  राजीव कुमार से पूछताछ करने  उनके घर  पहुंचे।  सीबीआई के अफसरों को फाइलों की तलाश थी जो रोज वैली और शारदा चिटफंड घोटाले से जुड़ी हुई थी। सूत्रों के मुताबिक बताया जाता है कि  रोजवैली और शारदा चिटफंड से जुड़े घोटाले की फाइलें कोलकाता पुलिस द्वारा गायब कर दी गई थी । खासतौर उन्हीं फाइलों  की तलाश में सीबीआई के  40 अफसर कोलकाता पुलिस आयुक्त राजीव कुमार के घर पहुंचे। मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक बताया जाता है कि सीबीआई अफसरों के राजीव कुमार के घर में घुसने से पहले ही कोलकाता की स्थानीय पुलिस ने धक्का-मुक्की करते हुए उन्हें गिरफ्तार करके पुलिस की जीप में बांध दिया गया।एक पुलिस स्टेशन में रखा गया । जबकि कोलकाता के डीजीपी ने सीबीआई के अधिकारियों को गिरफ्तारी करने का खंडन किया। पश्चिम बंगाल के कोलकाता में जैसे ही सीबीआई को गिरफ्तारी का हाईवोल्टेज ड्रामा मीडिया में फ्लैश हुआ। देश की राजनीति में भूचाल आ गया। वहीं हाई वोल्टेज ड्रामा के बाद पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी कोलकाता पुलिस आयुक्त राजीव कुमार के समर्थन में मेट्रो स्टेशन के पास धर्मतल्ला पर रविवार से धरने पर अपने सभी समर्थकों के सत्याग्रह करते हुए धरने पर बैठ गई है। मौजूदा स्थिति को देखते हुए पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी ने आज सोमवार को तकरीबन 12:00 बजे  धरने पर बैठकर ही अपने कैबिनेट के सभी मंत्रियों को बुलाकर कैबिनेट मीटिंग की। मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक जिस तरह की पश्चिम बंगाल की खबरें आ रही हैं। उससे यह साफ जाहिर हो रहा है अब ममता बनर्जी यही रुकने वाली नहीं है। क्योंकि जिस धरना स्थल पर अपने समर्थकों के साथ धरना दे रही हैं। बड़े स्तर पर टेंट लगाते हो खाने-पीने की  बड़ी व्यवस्था की जा रही है। और पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी को मौजूदा राजनीति समीकरण को देखते हुए पूरे देश के कोने-कोने से राजनीतिक पार्टी को समर्थन मिलना शुरू हो गया है। सूत्रों के मुताबिक बताया जाता है ममता बनर्जी ने देश के कोने-कोने से समर्थन मांगना शुरू कर दिया है। ममता बनर्जी की कड़े तेवर के चलते 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले महागठबंधन पहले से ज्यादा और मजबूत होता जा रहा है पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और केंद्र के बीच बढ़ते तनाव को देखते हुए 2019 के लोकसभा चुनाव अब सीधे-सीधे महागठबंधन और एनडीए गठबंधन के बीच होगा। पश्चिम बंगाल के राजनीतिक घटनाक्रम को देखते हुए बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बयान देते हुए कहा

हालांकि एजेंसी के सूत्रों ने दावा किया कि उसके कुछ लोगों को  राजीव कुमार के लाउडन स्ट्रीट निवास से जबरन हटा दिया गया था और गिरफ्तार किया गया था, एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने इस दावे का खंडन किया और कहा कि उन्हें जांच के लिए पुलिस स्टेशन ले जाया गया है कि क्या उनके पास राजीव कुमार के पूछताछ के लिए आवश्यक दस्तावेज हैं । जैसे ही सड़क पर राजनीति हुई, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी  राजीव कुमार के आवास पर पहुंच गईं। उसने पहले राजीव कुमार को अपना समर्थन दिया था और आरोप लगाया था कि भाजपा “पुलिस और अन्य सभी संस्थानों को नियंत्रित करने के लिए शक्ति का दुरुपयोग कर रही है”।

पार्टी के प्रवक्ता डेरेक ओ ‘ब्रायन ने ट्वीट किया, “भाजपा एक संवैधानिक तख्तापलट की योजना बना रही है?” CBI के 40 अधिकारियों ने कोलकाता पुलिस आयुक्त के घर को घेर कर कार्यवाही की।”पश्चिम बंगाल के डीजीपी वीरेंद्र और एडीजी (कानून व्यवस्था) अनुज शर्मा भी राजीव कुमार के आवास पर पहुंचे।कोलकाता पुलिस के अधिकारियों की एक टीम सीजीओ कॉम्प्लेक्स- सीबीआई के राज्य मुख्यालय पर पहुंची।

कोलकाता पुलिस आयुक्त राजीव कुमार के घर पहुंची सीबीआई के साथ क्या हुआ

एक दिन पहले, केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) ने दावा किया था कि राजीव कुमार शारदा और रोज वैली प चिटफंड घोटाले के  मामलों के  फरार थे और  उनकी तलाश की जा रही थी। जैसे ही सीबीआई टीम शहर के पुलिस प्रमुख राजीव कुमार  के आवास पर उतरी, कोलकाता पुलिस अधिकारियों की एक टीम सीबीआई अधिकारियों से बात करने के लिए घटनास्थल पर पहुंची और पूछताछ करने की कोशिश की कि क्या उनके पास राजीव कुमार से पूछताछ करने के लिए आवश्यक दस्तावेज हैं। “अब हम इस मुद्दे पर नहीं बोलना चाहते हैं। चलिए देखते हैं क्या होता है। कृपया कुछ समय प्रतीक्षा करें, “पुलिस आयुक्त के घर के बाहर खड़े सीबीआई के एक वरिष्ठ अधिकारी ने संवाददाताओं को बताया। बाद में, सीबीआई अधिकारियों की एक छोटी टीम को आगे की चर्चा के लिए शेक्सपियर सरानी पुलिस स्टेशन ले जाया गया। इसके बाद, अधिक लोग मौके पर पहुंचे और हंगामा शुरू हो गया। कुछ CBI अधिकारियों को जबरन पुलिस की जीप में बांध कर एक पुलिस स्टेशन ले जाया गया।

सीबीआई के मुताबिक, घोटाले की जांच कर रहे पश्चिम बंगाल पुलिस के एक विशेष जांच दल का नेतृत्व करने वाले आईपीएस अधिकारी राजीव कुमार को लापता दस्तावेजों और फाइलों के बारे में पूछताछ करने की जरूरत है, लेकिन उन्होंने एजेंसी के सामने पेश होने के लिए नोटिस का जवाब नहीं दिया है। सूत्रों ने बताया कि पश्चिम बंगाल कैडर के 1989 बैच के आईपीएस अधिकारी राजीव  कुमार ने भी चुनाव आयोग के अधिकारियों के साथ बैठक में भाग नहीं लिया था

जिस तरह कोलकाता पुलिस और सीबीआई के अधिकारियों के बीच में हाई वोल्टेज ड्रामा हुआ उससे साफ जाहिर हो रहा है कि अब यह लड़ाई ही रुकने वाली नहीं है। क्योंकि आज जिस तरह कोलकाता पुलिस द्वारा  सीबीआईअफसरों को गिरफ्तारी  को लेकर लोकसभा में गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने संसद में बयान दिए। उस समय टीएमसी सांसद के साथ महागठबंधन के सांसद ने जमकर बवाल काटते हुए नारेबाजी करते हुए कहा मोदी सरकार का सीबीआई तोता है मोदी सरकार का सीबीआई तोता होता है सीबीआई तोता है सीबीआई तोता है इससे साफ जाहिर हो रहा है कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और केंद्र सरकार के बीच आर-पार की लड़ाई शुरू होने जा रही है।

कोलकाता पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार को गिरफ्तार कर सकती है सीबीआई, तीन दिन से फराऱ

https://www.outlookhindi.com/country/state/west-bengal-police-detains-the-cbi-team-mamata-banerjee-targets-bjp-that-it-is-torturing-bengal-34409