Indian General Election 2019

बरेली लोकसभा सीटःतो क्या इस सीट पर मुस्लिम मतदाताओं के भ्रमित होने से मिलेगा संतोष गंगवार को फायदा

बरेली लोकसभा सीटःतो क्या इस सीट पर मुस्लिम मतदाताओं के भ्रमित होने से मिलेगा संतोष गंगवार को फायदा

बरेली लोकसभा सीट।तो क्या  इस  सीट  पर मुस्लिम मतदाताओं के भ्रमित होने से मिलेगा संतोष गंगवार को फायदा

बरेली:2019 के लोकसभा चुनाव में बरेली की  सीट पर भाजपा के संतोष गंगवार, महागठबंधन से भगवत शरण गंगवार और कांग्रेस से  प्रवीण सिंह ऐरन मैदान में।

बरेली लोकसभा सीट पर तक़रीबन 17 लाख मतदाता है। जिसमें जिसमें मुस्लिम मतदाता 4:30 लाख,  कुर्मी

मतदाता  साढे तीन लाख,  एससी 1.75लाख, मौर्य 1.50लाख,वैश्य 1.25 लाख कश्यप एक लाख, लोधी

एक लाख, यादव 70000 ठाकुर 25000 और क्षत्रिय 70000 हजार,

2019 के लोकसभा चुनाव में जिस तरह कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भाजपा के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर राफेल

डील, काला धन,  राम मंदिर, 15-15 लाख,  2  करोड़ रोजगार को लेकर लगातार पीएम मोदी पर हमला बोलते

नजर आते रहे। जिससे देश के  मुसलमानों  को लगा कि सिर्फ कांग्रेस पार्टी के राहुल गांधी एक ऐसे व्यक्ति हैं जो

भारतीय जनता पार्टी के नरेंद्र मोदी को हराने में सक्षम है। आज कांग्रेस पार्टी उत्तर प्रदेश में अपनी खोई हुई जमीन

तलाशने में एड़ी चोटी का जोर लगाए हुए हैं लेकिन उत्तर प्रदेश में सपा बसपा व आरएलडी ने गठबंधन का अपनी

स्थिति काफी मजबूत कर ली है। लेकिन उत्तर प्रदेश में महागठबंधन ने कांग्रेस को शामिल ना करके एक बड़ी

भूल भी कर ली है। ऐसी स्थिति में कांग्रेस को अलग-थलग छोड़कर महागठबंधन  कामयाब  होने  की  राह में  आगे

निकल चुका है। ऐसी स्थिति में उत्तर प्रदेश के साथ-साथ बरेली में भी मुस्लिम मतदाताओं के बीच में कंफ्यूजन की

स्थिति बनी हुई है। जो पूरी तरह महागठबंधन को सपोर्ट ना करके कांग्रेस को भी सपोर्ट कर रहा है। जिसके कारण

बरेली की लोकसभा सीट पर भाजपा के संतोष गंगवार की स्थिति मजबूत होती दिख रह है। अगर यही हाल मुस्लिम

मतदाताओं उत्तर प्रदेश में रहा। उत्तर प्रदेश में लोकसभा की 80 सीटों में से भाजपा 2014 का इतिहास दोहराएंगे।

दरअसल उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी नहीं चाहती थी कि महागठबंधन और कांग्रेसी आपस में मिले। अगर

यही हाल पूरे देश का रहा तो नरेंद्र मोदी को दोबारा से प्रधानमंत्री बनने से कोई नहीं रोक सकता।

बरेली की लोकसभा सीट पर कांग्रेस पार्टी के प्रवीण सिंह ऐरन बरेली के उम्मीदवार होने के साथ-साथ जीतने की

स्थिति में नहीं। लेकिन जिस तरह प्रवीण सिंह ऐरन मैदान में दमखम के साथ लड़ रहे हैं। उससे मुस्लिम मतदाताओं

को यह लग रहा है कि प्रवीण सिंह ऐरन भाजपा के संतोष गंगवार को मात दे रहे हैं। लेकिन हकीकत तो यह है।

Advertisement

प्रवीण सिंह ऐरन के आने से मुस्लिम मतदाताओं का ध्रुवीकरण होना शुरू हो गया है। मौजूदा स्थिति को देखते

हुए बरेली की लोकसभा सीट पर मुस्लिम मतदाताओं का कांग्रेस का रुझान ही संतोष गंगवार को आठवीं बार सांसद चुनकर दिल्ली जा सकते हैं।

हालांकि इसमें कोई दो राय नहीं की महागठबंधन से भगवत शरण गंगवार के आने से एक बार  भाजपा के

संतोष गंगवार को झटका लगा है। क्योंकि महा गठबंधन के प्रत्याशी भगवत शरण गंगवार अपने ही बिरादरी का

60% वोट मजबूती के साथ काट रहे हैं। लेकिन दूसरी और भाजपा के संतोष गंगवार को मुस्लिम वोटों के ध्रुवीकरण की कारण उन्हें फायदा मिलता दिख रहा है।

2019 लोकसभा चुनाव बरेली लाइव अपडेट।जानिए इन गांव से जीरो ग्राउंड रिपोर्ट

हेलो गाइस टाइगर पोस्ट न्यूज़ नेटवर्क सदैव आप के लिए नवीनतम एवं उच्च क्वालिटी की खबरें व जानकारी उपलब्ध कराने के लिए वचनबद्ध है। हमारे चैनल द्वारा कोई ऐसी खबरों को बिल्कुल प्रसारित नहीं किया जाएगा जो सांप्रदायिकता व असामाजिक तत्वों को बढ़ावा देती है।टाइगर पोस्ट न्यूज नेटवर्क परिवार आप से आशा करता हैकि आप बेहतरीन, नवीनतम उच्च क्वालिटी की खबरें और जानकारी के लिए हमारे चैनल को सब्सक्राइब करें। सुशील बाबू सागर चीफ इन एडिटर टाइगर पोस्ट न्यूज़ नेटवर्क रूम नंबर 1,बी 46, सेक्टर 63 नोएडा गौतम बुद्ब नगर उत्तर प्रदेश भारत। Follow us Twitter :Check out Tiger Post News देश का भरोसेमंद चैनल (@TigerPost4): https://twitter.com/TigerPost4?s=09 YouTube:https://www.youtube.com/channel/UCamYXheqEMUNXQFzMcTPhZg Facebook:https://www.facebook.com/Tiger-Post-News-Network-946546132208326/ Tiger Post News network Owner:Susheel Babu Sagar info@tigerpostnews.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>