Indian General Election 2019

Bhopal Elections results 2019:अपनी हार से बौखलाए दिग्विजय सिंह ने कहा महात्मा गांधी के हत्यारे वाली विचारधारा जीती

Bhopal Elections results 2019:अपनी हार से बौखलाए दिग्विजय सिंह ने कहा महात्मा गांधी के हत्यारे वाली विचारधारा जीती

Bhopal Elections results 2019:अपनी हार से बौखलाए दिग्विजय सिंह Digvijay Singh ने कहा महात्मा गांधी के हत्यारे वाली विचारधारा जीती।

Madya Pradesh Bhopal Election results 2019

भोपाल:भोपाल हाई प्रोफाइल लोकसभा  सीट पर रिकॉर्ड मतों रिकॉर्ड मतों से जीतकर साध्वी प्रज्ञा Pragya Thakur ठाकुर ने इतिहास रचा। वही प्रज्ञा ठाकुर

Pragya Thakur जी से  बौखलाए  कांग्रेसी  नेता दिग्विजय सिंह Digvijay Singh ट्विटर के माध्यम से

अपनी बौखलाहट जाहिर करते हुए लिखते हैं कि महात्मा गांधी के  हत्यारे वाली  विचारधारा  जीत गई। और

गांधी जी के  विचारधारा हार गई। mahaatma gaandhee ke  hatyaare vaalee vichaara

dhaara jeet gaee.aur gaandhee jee ke  vichaaradhaara haar gaee.

दरअसल  भोपाल  लोकसभा  सीट से इस बार भारतीय जनता पार्टी ने साध्वी प्रज्ञा ठाकुर Pragya Thakur पर

आस्था जताते हुए  मैदान में उतारा। जो मौजूदा समय में मालेगांव बम ब्लास्ट के आरोपी। उनकी टक्कर पर कांग्रेस पार्टी ने मध्य प्रदेश

के पूर्व मुख्यमंत्री एवं वरिष्ठ कांग्रेसी नेता दिग्विजय  सिंह Digvijay Singh को मैदान में उतारा। 23 मई 2019 को

भोपाल लोकसभा सीट पर जैसे ही मतगणना शुरू हुई। उसके बाद मतगणना के शुरुआती चरण  में भाजपा प्रत्याशी साध्वी प्रज्ञा ठाकुर Pragya  Thakur

 

कांग्रेसी प्रत्याशी दिग्विजय सिंह Digvijay Singh को 80,000 से 90000 वोटों तक पछाड़ती दिखीं।अंतिम

चरण की मतदाता तक भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशी साध्वी प्रज्ञा ठाकुर Pragya Thakur ने कांग्रेस प्रत्याशी

दिग्विजय सिंह Digvijay Singh के सामने 866482 वोटों का पहाड़ जैसा स्कोर खड़ा कर दिया।जिसको चाह

कर भी कांग्रेस  प्रत्याशी दिग्विजय सिंह Digvijay Singh चाह कर भी नहीं छू सकते। भोपाल लोकसभा सीट पर

भाजपा की प्रत्याशी साध्वी प्रज्ञा ठाकुर Pragya Thakur को 866482 वोट मिले जबकि उनके प्रतिद्वंद्वी कांग्रेस

प्रत्याशी दिग्विजय सिंह Digvijay Singh 501660 वोट मिले।

दरअसल कांग्रेस पार्टी प्रत्याशी दिग्विजय Digvijay Singh सिंह के हाल  उस खिसियानी बिल्ली खंबा नोचे

की तरह हो गए हैं।जो अपनी खिसिहाट में अपने विरोधी का कुछ नहीं उखाड़ पा रहे हैं। उनकी इस हथियार का

नमूना तब देखने को मिला जब उन्होंने ट्विटर पर ट्वीट करते हुए लिखा गांधी जी  के हत्यारे वाली विचारधारा

जीत गई। और गांधी जी वाली विचारधारा हार गई।

कांग्रेसी नेता दिग्विजय सिंह Digvijay Singh के इस बयान से  अंदाजा लगाया जा सकता है। हारने के बाद

आप कुछ भी कहेंगे  तो क्या भोपाल की जनता आप की  बात स्वीकार  कर लेगी। ऐसा बिल्कुल नहीं है। भोपाल की

जनता ने कांग्रेसी  प्रत्याशी दिग्विजय  सिंह Digvijay Singh को पूरी तरह  नकार दिया है। शायद अपने इसी

खिसिहाट अनाप-शनाप बयान देने से बाज नहीं आ रहा है उन्हें जनता का जनादेश स्वीकार करते हुए अपनी हार मान

लेना चाहिए। यह भारत का दुर्भाग्य है  कि  हर  व्यक्ति हारने का बाद  अपना  ठिकाना  अपने विरोधी पर फोड़ता

है। अब देश की जनता पूरी तरह जागृत  हो चुकी है। वह ऐसी किसी नेता के चुंगल में नहीं आने वाली जो जीतने के

बाद जनता के खिलाफ वादाखिलाफी करते हैं। आज हम  सबको मिलकर  मोदी के नेतृत्व में एक नवीन भारत का

निर्माण करना है। इसलिए देश के ऐसे सभी नकारे नेताओं के बचे। जो सिर्फ अपनी जातिवाद के नाम से दुकान चलाते हैं।

Election results 2019 मोदी को हराना मुश्किल ही नहीं बल्कि नामुमकिन भी है।विस्तार से बता रहे हैं। रिटायर्ड लेक्चरर विद्या राम जी

हेलो गाइस टाइगर पोस्ट न्यूज़ नेटवर्क सदैव आप के लिए नवीनतम एवं उच्च क्वालिटी की खबरें व जानकारी उपलब्ध कराने के लिए वचनबद्ध है। हमारे चैनल द्वारा कोई ऐसी खबरों को बिल्कुल प्रसारित नहीं किया जाएगा जो सांप्रदायिकता व असामाजिक तत्वों को बढ़ावा देती है।टाइगर पोस्ट न्यूज नेटवर्क परिवार आप से आशा करता हैकि आप बेहतरीन, नवीनतम उच्च क्वालिटी की खबरें और जानकारी के लिए हमारे चैनल को सब्सक्राइब करें। सुशील बाबू सागर चीफ इन एडिटर टाइगर पोस्ट न्यूज़ रूम नंबर 1,बी 46, सेक्टर 63 नोएडा गौतम बुद्ब नगर उत्तर प्रदेश भारत। 201301 Tiger Post News Owner:Susheel Babu Sagar info@tigerpostnews.com sachinsagarsachin09@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>