2019 के लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण में यूपी में रहेगी हाथी की धमक या फिर कमल की चमक

2019 के लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण में यूपी में रहेगी हाथी की धमक या फिर कमल की चमक। Indian General Election 2019 2019 के लोकसभा चुनाव में 17 बीँ सामान्य चुनाव के पहले  चरण में पश्चिम  उत्तर प्रदेश के 10 जिले के 8 लोकसभा सीट पर 86 प्रत्याशियों का भाग्य में कैद हो गया। मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक बताया जा रहा है कि ज्यादातर सीटों पर महागठबंधन और कमल के फूल के बीच टक्कर देखने को मिली। और कल बृहस्पतिवार 18 अप्रैल 2019 को दूसरे चरण की 8 लोकसभा सीट पर सुबह 8:00 बजे मतदान शुरू होगा। जिसको लेकर अपने मतदान केंद्र पर पोलिंग पार्टियां रवाना हो चुकी। जिन आज लोकसभा सीट पर कल मतदान होना है वह नगीना, बुलंदशहर, आगरा ,हाथरस ,अमरोहा, अलीगढ़ मथुरा और फतेहपुर सीकरी हैं। आगरा लोकसभा सीट पर इस बार महा गठबंधन के प्रत्याशी मनोज कुमार सोनी ,भारतीय जनता पार्टी से एस पी बघेल मैदान और कांग्रेसी आईआरएस प्रीता   हरित मैदान में हैं। उत्तर प्रदेश की आगरा लोकसभा सीट वह सीट है जहां बहुजनों का गढ़ माना जाता है। यहां पर एससी समाज के लोगों की तकरीबन 37% आबादी है। 2014 में भारतीय जनता पार्टी के रमाशंकर कठेरिया यहां से विजय हुए थे। इस बार भारतीय जनता पार्टी ने रमा शंकर कठेरिया का टिकट काटकर इटावा से मैदान में उतारा है। और भारतीय जनता पार्टी ने आगरा की लोकसभा सीट से एससी बघेल को मैदान में उतारे हैं। कुछ समय पहले एससी समाज की अंजली नाम की बेटी को पेट्रोल छिड़क कर दिनदहाड़े जिंदा जला दिया था। जिसको लेकर एससी समाज के लोगों ने पूरे देश में जमकर  भाजपा सरकार के खिलाफ हल्ला बोला। हालांकि आगरा पुलिस ने  इस मामले का खुलासा कर दिया। लेकिन बहुजन समाज आज तक आगरा पुलिस की कार्यशैली से संतोष नहीँ। इसलिए अब आगरा लोकसभा सीट पर महा गठबंधन के प्रत्याशी मनोज कुमार सोनी भारतीय जनता पार्टी के एस पी बघेल को कड़ी मौत दे रहे हैं। मथुरा लोकसभा सीट पर महा गठबंधन के प्रत्याशी नरेंद्र सिंह भारतीय जनता पार्टी की प्रत्याशी हेमा मालिनी को कड़ी चुनौती दे रहे। वहीं अलीगढ़ लोक सभा सीट पर भाजपा के सतीश गौतम महागठबंधन के अजीत बालियान और कांग्रेस के विजेंद्र सिंह मैदान में। 2014 के लोकसभा चुनाव में भाजपा के सतीश गौतम ने मोदी लहर के चलते यह सीट जीती । लेकिन इस बार बसपा सपा और आरएलडी का गठबंधन होने के बाद महागठबंधन ने अजीत बालियान को मैदान में उतारा है और कांग्रेस पार्टी ने विजेंद्र सिंह को। उत्तर प्रदेश की राजनीति में अलीगढ़ सबसे लोकप्रिय सीट है क्योंकि यहां पर अलीगढ़ यूनिवर्सिटी दुनिया भर में प्रसिद्ध है। जिस में आए दिन  किसी न  किसी बात को लेकर विवाद होता रहता है। अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में कुछ समय पहले छात्र संघ चुनाव में छात्र नेताओं ने पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाए जिसको लेकर उत्तर प्रदेश की राजनीति काफी गर्म गर्मी हो गई। जिसको लेकर भाजपा के सांसद सतीश गौतम ने पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाने वाले छात्रों के खिलाफ एफ आई आर दर्ज करा दी थी। कुल मिलाकर  महा गठबंधन  के प्रत्याशी अजीत बालियान और भाजपा के प्रत्याशी सतीश गौतम के बीच में कड़ी  टक्कर  होने  की संभावना। लेकिन  अंदर खाने सतीश गौतम को भाजपा के लोग ही कमजोर करने में लगे हुए। जिसके कारण हो सकता है कि इस बार  भाजपा के सांसद सतीश गौतम को सीट को गवाना न पड़े। उत्तर प्रदेश के कल होने जा रहे दूसरे चरण के मतदान के 8 लोकसभा सीट पर। लोकसभा चुनाव में मोदी लहर की जगह महागठबंधन की लहर देखने को मिल रही है। तीसरे चरण के मतदान के दौरान एंबुलेंस के अभाव में पीठासीन अधिकारी की हार्ट अटैक मौत। आखिर मौत का जिम्मेदार कौन