Indian News

2019 के लोकसभा चुनाव से पहले ममता को बड़ा झटका।पश्चिम बंगाल में उलझा राजनीतिक उलटफेर

2019 के लोकसभा चुनाव से पहले ममता को बड़ा झटका।पश्चिम बंगाल में उलझा राजनीतिक उलटफेर
2019 के लोकसभा चुनाव से पहले ममता को बड़ा झटका। पश्चिम बंगाल में उलझा राजनीतिक उलटफेर

West Bengal elections live updates

कोलकाताःपश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री एवं तृणमूल कांग्रेस पार्टी की मुखिया ममता बनर्जी के 2 हजा

कार्यकर्ताओं ने उनको बड़ा झटका दे दिया है। टीएमसी बीजेपी और सीपीआई के हजारों कार्यकर्ता ने अपनी

अपनी पार्टियों को अलविदा कहते हुए।कांग्रेस पार्टी का दामन को थामा है। ममता बनर्जी को उनके  दो  हजार

कार्यकर्ताओं के टीएमसी छोड़ने के कारण संकट पैदा हो गया है जिसके कारण वहां की राजनीतिक में बहुत बड़ा

उलटफेर होता नजर आ रहा है। अब देखना यह है कि ममता बनर्जी इस मामले में आगे क्या कदम उठाती है

इस के चलते  ममता बनर्जी को महा संगठन में शामिल होने से पहले बड़ा झटका मिल गया है ।सूत्रों की मानें तो

पश्चिम बंगाल की सत्ताधारी पार्टी तृणमूल कांग्रेस के माइनॉरिटी सेल के उपाध्यक्ष शकील अहमद अंसारी ने इस

बात की  पुष्टि की है कि तृणमूल कांग्रेस पार्टी भारतीय जनता पार्टी, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के सैकड़ों

कार्यकर्ताओं ने अपनी अपनी पार्टियों को छोड़कर कांग्रेस पार्टी का दामन थामा है। इस लिहाज से कांग्रेस पार्टी वहांँ

में पहले से ज्यादा मजबूत होती दिख रही है। पश्चिम बंगाल में जिस मुस्लिम कार्यकर्ताओं के बल पर मुख्यमंत्री ममता

बनर्जी अपनी ताकत का दम भरतीं थीं। अबे टूटने के कगार पर है। यानी संक्षिप्त शब्दों में कहा जाए तो कांग्रेस

पार्टी वहां पर अच्छा प्रदर्शन करने जा रही है

आपको बता दें वहां पर मुस्लिम कार्यकर्ताओं को अब सीधे-सीधे महसूस हो  रहा है कि 2019 के लोकसभा

चुनाव में भारतीय जनता पार्टी की मोदी सरकार को कांग्रेस पार्टी ही हरा सकती है। इसलिए मुस्लिम

कार्यकर्ताओं ने सोचा क्यों ना कांग्रेस पार्टी को ज्वाइन किया जाए। अब तक अन्य पार्टी  छोड़कर कांग्रेस पार्टी में

आए कार्यकर्ताओं की संख्या तकरीबन 2500 गई है। पश्चिम बंगाल में लगातार कांग्रेस की बढ़ती मजबूती के

चलते यह बात तो सिद्ध होते दिख रही है कि 2019 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी पूरे दमखम के साथ मोदी सरकार से टक्कर लेते दिखेगी।

पश्चिम बंगाल की 2014 लोकसभा  चुनाव के नतीजों की बात करें तो लोकसभा की कुल 42 सीटों में से टीएमसी

को 34 ,कांग्रेस को 4, सीपीएम 2 बीजेपी 2 सीटों पर जीत दर्ज ।

2019 के लोकसभा चुनाव से पहले जिस तरह   बंगाल में ममता बनर्जी की टीएमसी कमजोर होते दिख रही है।

उसका सीधा फायदा कांग्रेस की झोली में जाता दिख रहा है। इसको सरल शब्दों में यह कहा जा सकता है कि

2014 के लोकसभा चुनाव में ममता बनर्जी को 34 सीटें मिली। और कांग्रेस पार्टी को 4 सीटें। सूत्रों की मानें तो

ठीक 2019 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को यहां से 20से 30 सीटें मिलने की उम्मीद है। और ममता बनर्जी की

तृणमूल कांग्रेस पार्टी को 10 से 20 सीट पर समिति की उम्मीद है।

भारतीय जनता पार्टी  के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने पश्चिम बंगाल में रैली में दम भरते हुए कहा। इस बार

बीजेपी यहां से 22 सीटों जीतेगी। अगर सूत्रों की मानें तो भारतीय जनता पार्टी पश्चिम बंगाल में कोई गुल खिलाते

नहीं दिख रही है। भारतीय जनता पार्टी अपने राम मंदिर के मुद्दे में उलझ कर रह गई है। सुप्रीम कोर्ट में दरअसल राम

मंदिर का फैसला नहीं बल्कि बाबरी मस्जिद राम जन्मभूमि बौद्ध स्थल जमीनी विवाद का फैसला है। जिसका फैसला

सभी धर्मों के आस्था का प्रतीक है।जिस पर माननीय सुप्रीम कोर्ट सभी धर्म को सम्मान रखते हुए फैसला सुनाने की उम्मीद है।

फिलहाल देश की सम्मानित जनता को तय करना है कि 2019 के लोकसभा चुनाव में आखिर किस को प्रधानमंत्री बनाना है।

हेलो गाइस टाइगर पोस्ट न्यूज़ नेटवर्क सदैव आप के लिए नवीनतम एवं उच्च क्वालिटी की खबरें व जानकारी उपलब्ध कराने के लिए वचनबद्ध है। हमारे चैनल द्वारा कोई ऐसी खबरों को बिल्कुल प्रसारित नहीं किया जाएगा जो सांप्रदायिकता व असामाजिक तत्वों को बढ़ावा देती है।टाइगर पोस्ट न्यूज नेटवर्क परिवार आप से आशा करता हैकि आप बेहतरीन, नवीनतम उच्च क्वालिटी की खबरें और जानकारी के लिए हमारे चैनल को सब्सक्राइब करें। सुशील बाबू सागर चीफ इन एडिटर टाइगर पोस्ट न्यूज़ रूम नंबर 1,बी 46, सेक्टर 63 नोएडा गौतम बुद्ब नगर उत्तर प्रदेश भारत। 201301 Tiger Post News Owner:Susheel Babu Sagar info@tigerpostnews.com sachinsagarsachin09@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>