Giridih / Jharkhand

गिरिडीह में बालू माफियाओं के हौसले बुलंद। एनजीटी के निर्देशों को ताक में रखकर किया जा रहा है अवैध बालू का खनन

गिरिडीह में बालू माफियाओं के हौसले बुलंद। एनजीटी के निर्देशों को ताक में रखकर किया जा रहा है अवैध बालू का खनन
गिरिडीह में बालू माफियाओं के हौसले बुलंद। एनजीटी के निर्देशों को ताक में रखकर किया जा रहा है अवैध बालू का खनन।

गिरिडीहःजिला प्रशासन को धता बताते हुए बालू माफिया एक बार फिर चांदी कूटने में लग गये है। नेशनल ग्रीन

ट्रिब्यूनल (एनजीटी) के प्रतिबंध के बावजूद विभिन्न घाटों से इन दिनों धड़ल्ले से बालू का अवैध खनन किया जा रहा

है। बालू के अवैध खनन  में जेसीबी समेत अन्य मशीन का प्रयोग किया जा रहा है। गिरिडीह जिला प्रशासन की लचर

व्यवस्था  के चलते  अवैध  बालू  माफियाओं पर ठोस कार्रवाई न होने के कारण  बालू माफियाओं के हौसले

बुलंद होते जा रहे हैं। वहीं अवैध खनन माफिया को बचाने के लिए जिला प्रशासन सिर्फ छापेमारी के नाम पर महज खानापूर्ति हो रही है।

दरअसल जिला प्रशासन  को जिस हिसाब से खनन माफियाओं के खिलाफ कार्रवाई करना चाहिए था। उस

हिसाब से कार्रवाई न करके  मात्र दो चार दिन में दो-चार ट्रैक्टर जब्त किये जा रहे है।यह कार्रवाई बालू लूट को

रोकने के लिए पर्याप्त नहीं है। जिन घाटों पर बालू का अवैध खनन किया जा रहा है उन स्थानों तक जिला

प्रशासन के  पदाधिकारी नहीं पहुंचते। जिसके कारण  अवैध  बालू माफिया के सैकड़ों ट्रैक्टर देर रात से लेकर

तड़के सुबह तक बालू ढो रहे है। माॅनसून के मद्देनजर एनजीटी का सख्त निर्देश है कि 15 अक्तूबर तक नदियों से

बालू का उठाव नहीं होगा।कारोबार से जुड़े  माफियाओं और प्रशासन एनजीटी के आदेश का कोई असर नहीं है

बालू का उठाव बदस्तूर जारी हैबालू उठाव से जलस्तर व खेती हो रही प्रभावित हो रही है इसके कारण लगातार

बालू उठाव से जहां एक ओर नदियों का अस्तित्व खतरे में है, वहीं दूसरी ओर नदी व आसपास के इलाकों का जल

स्तर पाताल छू रहा है. राजदाह धाम, निमाटांड, ऊर्रो मे जलमीनार रहने के बावजूद बालू उठाव के असर से

शाहजहांपुर की छात्रा के 164 के बयान के बाद बड़ी चिन्मयानंद की मुसीबतें।लटकी गिरफ्तारी की तलवार

जलापूर्ति अक्सर बाधित रहती है, जिससे लोगों के समक्ष पेयजल का भी संकट है. पहले किसान बराकर नदी के

किनारे गेहूं की खेती करते थे, मगर पिछले कई वर्षो से पानी की कमी, नदी का कटाव व बालू के उठाव के कारण

किसानों ने गेहूं की खेती बंद कर दी है।फिलहाल निमा टांड,उर्रो घाट के डराकर नदी से बालू का उठाव हो रहा है

कई बार संबंधित विभाग के पदाधिकारियों व जिले के उच्चाधिकारियों से शिकायत की. मगर कारगर कार्रवाई

नहीं होने से बालू का उठाव जारी है. उन्होंने कहा कि बालू उठाव के कारण जल संकट बढ़ता जा रहा है. वहीं खेती

हरियाणा की पृथला विधानसभा से बसपा उम्मीदवार के चयन को लेकर क्यों हुई खतरनाक स्थिति

भी प्रभावित हो रही है। अब देखना यह है कि एनजीटी के सख्त्त निर्देश जिला प्रशासन  बालू माफियाओं पर  कितनी

प्रभावी कार्रवाई करता है। या फिर बालू माफियाओं  के हौसले इसी तरह बुलंद रहेंगे। बालू माफियाओं से जुड़ी हर ताजा अपडेट जानने के लिए जुड़े रहिए टाइगर पोस्ट न्यूज़ से।

रिपोर्ट रंजन कुमार टाइगर पोस्ट न्यूज़ स्टेट चीफ ब्यूरो झारखंड

www.tigerpostnews.com

हेलो गाइस टाइगर पोस्ट न्यूज़ नेटवर्क सदैव आप के लिए नवीनतम एवं उच्च क्वालिटी की खबरें व जानकारी उपलब्ध कराने के लिए वचनबद्ध है। हमारे चैनल द्वारा कोई ऐसी खबरों को बिल्कुल प्रसारित नहीं किया जाएगा जो सांप्रदायिकता व असामाजिक तत्वों को बढ़ावा देती है।टाइगर पोस्ट न्यूज नेटवर्क परिवार आप से आशा करता हैकि आप बेहतरीन, नवीनतम उच्च क्वालिटी की खबरें और जानकारी के लिए हमारे चैनल को सब्सक्राइब करें। सुशील बाबू सागर चीफ इन एडिटर टाइगर पोस्ट न्यूज़ रूम नंबर 1,बी 46, सेक्टर 63 नोएडा गौतम बुद्ब नगर उत्तर प्रदेश भारत। 201301 Tiger Post News Owner:Susheel Babu Sagar info@tigerpostnews.com sachinsagarsachin09@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>